सुपरस्टार खेसारीलाल यादव, जो सीतामढ़ी में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आए थे

सुपरस्टार खेसारीलाल यादव, जो सीतामढ़ी में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आए थे

बिहार इन दिनों बाढ़ की विभीषिका झेल रहा है। ऐसे में भोजपुरी सिनेमा के सुपर स्टार खेसारीलाल यादव आज सीतामढ़ी के बाढ़ प्रभावित परिवार मुख्यालय स्थित मसाह सहित अन्य गाँवों में लोगों की मदद के लिए खुद आए।

सीतामढ़ी में बाढ़ पीडितों के पास मदद लेकर पहुंचे सुपरस्‍टार खेसारीलाल यादव

READ ALSO:-  JDU नेता विश्व मोहन मंडल RJD में शामिल

बिहार इन दिनों बाढ़ की विभीषिका झेल रहा है। ऐसे में भोजपुरी सिनेमा के सुपर स्टार खेसारीलाल यादव आज सीतामढ़ी के बाढ़ प्रभावित परिवार मुख्यालय में स्थित मसाह सहित अन्य गांवों के लोगों की मदद करने के लिए खुद आए। यहां उन्होंने सबसे पहले बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण किया। बाढ़ के बाद, राहत शिविर में रहने वाले लोग अपने घरों से दूर हो गए और उन्हें खेसारी फाउंडेशन के तहत आवश्यक रूप से राशन, कपड़ा, दवाइयां और अन्य आवश्यकताएं प्रदान कीं। इस दौरान गीतकार पवन पांडे, पीआर रंजन सिन्हा समेत कई लोग मौजूद थे।

Advertisements

बाद में, उन्होंने पत्रकारों से कहा कि हर साल हमारी भयावह बाढ़ का सामना हमारे अपने लोगों को करना पड़ता है। यह बहुत दर्दनाक है। आज के युग में, बाढ़ जैसे बाढ़ से बचाव के लिए एक स्थायी समाधान खोजने की आवश्यकता है। अभी हम यहां बाढ़ पीड़ितों से मिले। कई लोगों के पास अब रहने के लिए घर नहीं बचा है। कई लोगों ने बाढ़ में अपने प्रियजनों को खो दिया। कई व्यवसाय नष्ट हो गए। किसानों की फसलें पूरी तरह से तबाह हो गईं। इसलिए, इस समस्या का निदान महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हम अपने लोगों को दर्द में नहीं देख सकते, इसलिए बेटे की तरह मदद लेकर आए हैं। यह हमारा ईश्वर है, जिसके कारण हम आज कुछ भी बन गए हैं। इसलिए हम अन्य लोगों से भी अपील करना चाहते हैं कि वे उन भाइयों और बहनों की मदद के लिए भी आगे आएं, जो बाढ़ से पीड़ित हैं।

READ ALSO:-  22 वर्षीय IPS काम्या मिश्रा बिहार में ASP बनीं, उनकी सफलता के बारे में जानकर जाएंगे चौंक आप
Latest Hindi News से हमेशा अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक, ट्विटर पर फॉलो करें एवं Google News पर फॉलो करे .

Advertisements
Advertisements

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*