अकेले चुनाव लड़ेगी LJP, चिराग ने नीतीश के नेतृत्व को दिया नकार

अकेले चुनाव लड़ेगी LJP, चिराग ने नीतीश के नेतृत्व को दिया नकार

फिलहाल, एक बड़ी खबर दिल्ली से आ रही है, जहां लोजपा के संसदीय बोर्ड की बैठक खत्म हो गई है। इस बैठक में एक बड़ा फैसला लिया गया है। विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने के लिए लोजपा ने बड़ा फैसला लिया है। सभी की निगाहें लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान पर थीं, जिन्होंने नीतीश के नेतृत्व को नकार दिया है।

यह बड़ा फैसला लोक जनशक्ति पार्टी केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक में सभी सदस्यों की उपस्थिति में लिया गया है। करीबी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कोरोना और ऑपरेशन के कारण, पशुपति पारस और कैसर वीसी के माध्यम से इस महत्वपूर्ण बैठक में शामिल हुए। इस बैठक में, एलजेपी नेताओं ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है।

READ ALSO:-  जनता कर्फ्यू वाले दिन दिल्ली के शाहीन बाग में क्या चल रहा है?
Advertisements

करीबी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, लोजपा-भाजपा सरकार का प्रस्ताव पास हो गया है। यानी चुनाव के बाद सभी लोजपा विधायक भाजपा का समर्थन करेंगे। सभी लोजपा विधायक पीएम मोदी को मजबूत करेंगे। दरअसल LJP एक साल से बिहार 1 बिहारी 1 के जरिए उठाए गए मुद्दों पर पीछे हटने को तैयार नहीं है।

Advertisements

बीजेपी और जेडीयू के बीच समझौता होने के बाद, अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी थीं कि चिराग पासवान आज बैठक के बाद कौन सा बड़ा फैसला लेने वाले हैं। हालांकि, जिस तरह से चिराग पासवान और उनकी पार्टी लगातार सीएम नीतीश की कार्यशैली पर सवाल उठाती रही है। यह माना जाता था कि चिराग किसी भी परिस्थिति में जेडीयू के साथ चुनावी मैदान में नहीं उतरेंगे। माना जा रहा है कि चिराग 143 सीटों के लिए अपना उम्मीदवार खड़ा करेंगे, जिसकी घोषणा उन्होंने पहले ही कर दी थी।

READ ALSO:-  पप्पू यादव की सलाह, महागठबंधन में चिराग पासवान की एंट्री के लिए कांग्रेस-राजद को मिलकर बात करनी चाहिए

 

दूसरी ओर, सीट-बंटवारा आखिरकार जेडीयू और भाजपा के बीच सीट-बंटवारे का मामला बन गया है। आधी सीटों के वितरण पर दोनों पक्षों के बीच एक समझौता हुआ है। बीजेपी से ज्यादा सीटें लेने के बाद नीतीश कुमार को जिद छोड़नी पड़ी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, जीतन राम मांझी के लिए पांच सीटें छोड़ी गई हैं। बाकी बची सीटों पर जेडीयू-बीजेपी के बीच हाफ डिवीजन होगा।

 

बीजेपी के सूत्रों के मुताबिक, रैली में आंकड़े 119-119 और पांच सीटें हैं। यानी अगर बीजेपी-जेडीयू 119-119 और जीतन राम मांझी-पांच जीतन राम मांझी की पांच सीटें जेडीयू के हिस्से में जाती हैं, तो आंकड़ा कुछ इस तरह होगा। जेडीयू के पास 124 और बीजेपी के 119. कहते हैं कि बीजेपी को अपने हिस्से के साथ एलजेपी को सीटें देनी थीं। लेकिन यह स्पष्ट है कि लोजपा भाजपा-जदयू के साथ चुनाव नहीं लड़ेगी। इसलिए जदयू भाजपा बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

READ ALSO:-  मुकेश सहनी ने कहा-इतनी सीटों पर लड़ेंगे चुनाव, वीआईपी को मिला एनडीए का सहारा
Latest Hindi News से हमेशा अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक, ट्विटर पर फॉलो करें एवं Google News पर फॉलो करे .

Advertisements

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*