BJP के 30 विधायकों का टिकट कट सकते हैं, पिछली बार हारे हुए पर भी टेढ़ी नजर

BJP के 30 विधायकों का टिकट कट सकते हैं, पिछली बार हारे हुए पर भी टेढ़ी नजर

वर्तमान तीस भाजपा विधायकों ने टिकट काटने के लिए अपनी तलवार लटकानी शुरू कर दी है। चुनाव में उतरने से पहले बीजेपी ले सकती है बड़ा फैसला वे विधायकों के रिपोर्ट कार्ड में विफल रहे हैं। वहीं, 2015 में भाजपा के हारने वाले उम्मीदवारों की रिपोर्ट भी सही नहीं है।

भाजपा के मंडल अध्यक्षों ने राज्य के 30 पार्टी विधायकों का टिकट काटने की सिफारिश कर पार्टी नेतृत्व के सामने नई चुनौती खड़ी कर दी है। मंडल अध्यक्षों ने स्पष्ट रूप से कहा है कि अगर इन तीस विधायकों को फिर से नामांकित किया जाता है, तो उनकी जीत मुश्किल होगी, इतना ही नहीं, पार्टी की मंडल इकाई ने उन्हें टिकट न देने की भी सलाह दी है, जो पिछले चुनाव में 25 से 30 हजार तक थे। अधिक मतों से हराया।

READ ALSO:-  12 जिले के डीएम-एसपी से मिलकर चुनाव आयोग की टीम भागलपुर पहुंची
Advertisements

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, मंडल अध्यक्षों ने भाजपा के मौजूदा 53 विधायकों में से 30 से अधिक के खिलाफ अपनी राय दी है। स्पष्ट रूप से कहा गया है कि यदि पार्टी एक ठोस जीत सुनिश्चित करना चाहती है, तो चेहरा बदलना आवश्यक है। हालांकि, मंडल अध्यक्षों ने यह भी कहा है कि मतदाताओं के बीच पार्टी की निष्ठा बरकरार है। पार्टी की जीत निश्चित है लेकिन उम्मीदवारों को लेकर लोगों में नाराजगी है। यदि यह नाराजगी चुनाव में भारी नहीं पड़ती है, तो यह आवश्यक है कि उम्मीदवार को चेहरा बदलकर मौका दिया जाए।

मंडल अध्यक्षों ने पिछली बार 25-30 हजार से अधिक वोटों से चुनाव हारने वाले उम्मीदवारों को टिकट देने से परहेज करने को भी कहा है। पार्टी का मानना ​​है कि अधिक वोटों के साथ, हारे हुए लोग फिर से चुनाव जीतने में सक्षम होंगे, इस बारे में संदेह है। वहीं, भाजपा के कई मौजूदा विधायकों का विरोध जारी है। हाल ही में प्रदेश भाजपा कार्यालय में लखीसराय के विधायक और श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा के खिलाफ भारी विरोध प्रदर्शन हुआ था।

READ ALSO:-  NRCऔर NPR का काल्पनिक डर दिखाने वालों को बेनकाब किया गया - मोदी
Advertisements

पटना में दानापुर के उम्मीदवार को बदलने के लिए कार्यकर्ताओं ने राज्य कार्यालय में हंगामा भी किया। वहीं, बांकीपुर में एक भाजपा नेता बड़े-बड़े होर्डिंग्स, बैनर और पोस्टर लगाकर खुद को उम्मीदवार बनाने पर तुले हुए हैं। कुम्हरार में, पटना महानगर से जुड़े नेताओं-कार्यकर्ताओं ने बैनर और पोस्टर लगाकर उम्मीदवारों को बदलने के संबंध में आलाकमान को पत्र भी भेजा है। बोचन में भी उम्मीदवार को लेकर आक्रोश की आवाजें उठीं। टिकट बांटे जाने तक पार्टी कार्यकर्ताओं का यह आक्रोश जारी रहेगा।

Latest Hindi News से हमेशा अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक, ट्विटर पर फॉलो करें एवं Google News पर फॉलो करे .

Advertisements

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*