पश्चिम बंगाल के चक्कर में बिहार गंवाएगी बीजेपी!

mamta narendra modi

बिहार विधानसभा का चुनाव कुछ महीनों बाद ही होना है। बिहार में सभी पार्टियां तैयारियों में जुट गई है। बीजेपी ने पहले से ही एलान कर रखा है कि इस बार का चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। अमित शाह से लेकर पीएम नरेंद्र मोदी तक की नजर बिहार पर नहीं पश्चिम बंगाल पर है। बंगाल में अमित शाह लगातार रैली कर रहे हैं और पीएम वहां के सांसदों से फीडबैक ले रहे हैं।

ऐसे में ये समझना आसान नहीं है कि बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व बिहार नहीं बंगाल को लेकर काफी गंभीर है। बीजेपी देश के नए इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत करने में लगी है। नार्थ इस्ट के ज्यादतर राज्यों में बीजेपी या फिर उसके गठबंधन की सरकार है। पश्चिम बंगाल का किला फतह करना बीजेपी के लिए आसान नहीं है ये बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व को मालूम है। 2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 42 सोटों में से 18 सीटें जीतकर बंगाल की सियासत में एक नया इतिहास लिख डाला। ऐसे में पूरी पार्टी का मनोबल बढ़ा हुआ है और राइटर्स बिल्डिंग पर कब्जे के लिए बीजेपी अपनी पूरी ताकत झोंक रही है। लोकसभा के चुनाव के पहले और बाद में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी के हाथ से कई राज्य जा चुके हैं।

Advertisements

ऐसे में सबसे ब़ड़ा सवाल है कि क्या बीजेपी बिहार को लेकर भी बहुत गंभीर नहीं है। क्या बीजेपी बिहार को नीतीश कुमार के भरोसे छोड़ रखा है। 2019 लोकसभा चुनाव में एनडीए ने बिहार से विपक्ष का लगभग सफाया कर दिया, 40 सीटों में से 39 पर एनडीए ने कब्जा जमा लिया। सियासत के जानकारों का मानना है कि लोकसभा चुनाव की तरह बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए के लिए लड़ाई आसान नहीं रहनेवाली है। लोकसभा चुनाव में बिहार के लोगों ने राहुल गांधी और पीएम मोदी में चुनाव किया था लेकिन विधानसभा चुनाव में मुद्दे अलग होंगे।

विधानसभा चुनाव में लोग कानून व्यवस्था से लेकर विकास के हर दावे को परखेंगे और इसका हिसाब नीतीश कुमार से ही मांगेंगे। 15 साल से एनडीए की सरकार चल रही है और अब लालू यादव के जंगलराज के नाम पर डराकर वोट नहीं लिया जा सकता है। सरकार को अपने 15 साल के प्रदर्शन पर वोट मांगने होंगे। बीजेपी ओवर कॉन्फिडेंस में मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और झारखंड जैसे राज्य गंवा चुकी है। एनडीए में शामिल लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट यात्रा पर हैं और वो अपनी ही सरकार पर हमलावर हैं।

Advertisements
READ ALSO:-  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर शेयर की #JantaCurfew एक लम्बी लड़ाई की शुरुआत है|

चिराग पासवान को पता है कि बिहार की जनता क्या सुनना चाहती है। खराब रोड, कमजोर कानून व्यवस्था और लोगों की मूलभुत जरूरतों के लिए 15 साल पहले की सरकार को नहीं कोसा जा सकता है। बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का क्रेज पहले जैसा नहीं रहा, इसकी बानगी देखने को मिली नीतीश के जन्मदिन पर, गांधी मैदान में दावा किया जा रहा था कि लाखों लोग आएंगे लेकिन पहुंचे सिर्फ कुछ हजार लोग। सियासी जानकारों की मानें तो एनडीए की जीत विपक्ष के विखराव पर ज्यादा निर्भर करता है।

Latest Hindi News से हमेशा अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक, ट्विटर पर फॉलो करें एवं Google News पर फॉलो करे .

Advertisements

About Patrakar Babu 218 Articles
पत्रकार बाबू डाॅट काॅम (www.patrakarbabu.com) यह नाम है उस कोशिश का जिसके जरिए खबरें आप तक अपने असली स्वरूप में पहुंचेगी। कोई सनसनी नहीं, न झूठ की चाशनी में लपेट कर और न हीं सच और झूठ की खटमिठी बनाकर हम खबरें आप तक परोसना चाहते हैं। हमारी कोशिश हीं यही है कि खबरिया न्यूज पोर्टल की भीड़ में हम एक और न्यूज पोर्टल की खानापूर्ति न करें बल्कि आमलोगों के सरोकारों, आमलोगों से जुड़ी खबरें और वो सच जिसे आप जानते चाहते हैं आप तक पहुंचाया जाए।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*