Bihar: सुशासन बाबु के राज में न्याय के लिए तरसती कुसुम देवी की आंखे

सुशासन बाबु के राज में न्याय के लिए तरसती कुसुम देवी की आंखे

कुसुम देवी जब अपने महुआ बाग के अपने किराए के घर से अपने पति स्व. चंदन कुमार के साथ सुबह के लगभग 10:30 में IGIMS hospital जाने के लिए निकली थी, तब उन्हें ये एहसास भी नहीं था कि अगले 5 से 10 मिनट में उनकी पूरी ज़िंदगी ही बदल जाएगी.
घर से निकलने के 5 मिनट बाद लगभग 10:35 में कुछ अपराधियों ने गोलियों से उनके पति की निर्मम हत्या कर दी. उन्हें तो पहली गोली लगने के समय झटका सा महसूस हुआ, फिर अपराधियों ने अपनी बाइक को घुमाकर वापस आए और तीन गोलियां और मारी.
कुसुम बताती हैं कि उनके दो बच्चों को अभी भी अपने पिता के आने का इंतजार है.
उनके बच्चों को अभी पुरी तरह पता भी नहीं की उनके पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे.
उनके पति की उम्र केवल 36 वर्ष ही थी. उनके पति पर ही घर चलाने की जिम्मेदारी थी और अब वो ही नहीं रहे.
कुसुम देवी बताती हैं कि अब वो हर दिन बस अपने पति के हत्यारों कि गिरफ्तारी का इंतजार कर रही हैं. अभी तक पुलिस  अपराधियों को पकड़ ने में नाकाम रही हैं. पुलिस जब तक उनके अपराधियों को पकड़ नहीं लेती उन्हें न्याय नहीं दिला देती तब तक उन्हें सुशासन बाबु की प्रशासन पर विस्वास नहीं होगा.
खुद को सुशासन बाबु बतलाने वालों से उन्हें बस इन्साफ़ की गुहार है.
Latest Hindi News से हमेशा अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक, ट्विटर पर फॉलो करें एवं Google News पर फॉलो करे .
Advertisements

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*