About Us

पत्रकार बाबू.COM के बारे में 🙂

पत्रकार बाबू डाॅट काॅम (www.patrakarbabu.com) यह नाम है उस कोशिश का जिसके जरिए खबरें आप तक अपने असली स्वरूप में पहुंचेगी। कोई सनसनी नहीं, न झूठ की चाशनी में लपेट कर और न हीं सच और झूठ की खटमिठी बनाकर हम खबरें आप तक परोसना चाहते हैं। हमारी कोशिश हीं यही है कि खबरिया न्यूज पोर्टल की भीड़ में हम एक और न्यूज पोर्टल की खानापूर्ति न करें बल्कि आमलोगों के सरोकारों, आमलोगों से जुड़ी खबरें और वो सच जिसे आप जानते चाहते हैं आप तक पहुंचाया जाए।

दरअसल अब ऐसी कोशिश बहुत जरूरी है क्योंकि खबरिया माध्यमों की भीड़ है। हजारों बेव पोर्टल हैं। सच्ची-झूठी सभी खबरें परोसी जा रही है न तो सच्ची खबरों को लेकर किसी में कोई जिद है और न हीं झूठी खबरों से किसी को परहेज है झूठ, और तथ्यहीन तर्कहीन बातों को खबर बनाकर परोसा जा रहा है। डिजिटल युग में यह विसंगति बढ़ी है और इसके शिकार सबसे ज्यादा वो लोग हैं जो खबरों के लिए इन माध्यमों पर निर्भर हैं। एक बड़ा दर्शक वर्ग और पाठक वर्ग है डिजिटल प्लेटफार्म के जरिए खबरें देखने और पढ़ने वालों का। लोगों के हाथ में मोबाइल है और ज्यादातर मोबाइल वैसी हीं है जिसपर आप खबरें देख सकते हैं, पढ़ सकते हैं और इंटरनेट के जरिए पूरी दुनिया से कनेक्ट रह सकते हैं।

जाहिर है लोगों की जरूरत मोबाईल और उस पर आने वाली खबरें बन गयी तो खबरिया माध्यमों की भीड़ बढ़ गयी है। तरह-तरह के न्यूज पोर्टल हैं जिनकी संख्या हजारों मे है और आपके लिए असमंजस की स्थिति यह है कि भरोसा किसकी खबर पर करें। स्थिति यह हो गयी है कि या तो सारी खबरें झूठ लगती है या फिर सारी खबरें सच लगती है। तय कर पाना मुश्किल हो रहा है कि कौन सी खबर सही है और कौन सी गलत। ऐसे में इस भीड़ भरी खबरों की दुनिया में कोई तो ऐसा हो जो इस भीड़ का हिस्सा न हो, कोई तो ऐसा मिले जो आपके अंदर यह यकीन पैदा कर सके कि वो जो खबरें आपको दे रहा है वो सही और सटीक है। दावा तो सब करते हैं पर खड़े कहां उतरते हैं। हम इस जरूरत को समझते भी हैं और इसे पूरा करने की जिद भी रखते हैं। हमारी कोशिश शुरू हो गयी है।

हम इसी जिद के साथ मैदान में उतरे हैं कि कैसे आपतक सही और सटीक खबरें बिना लाग लपेट के पहुंचायी जा सके। कैसे आपके अंदर इस यकीन को जिंदा किया जा सके कि सच को सच की तरह परोसा जा सकता है और खबर को झूठ या फरेब की चाशनी की जरूरत नहीं पड़ती। एक नाम आप अपने जेहन में याद कर लें पत्रकार बाबू डाॅट काॅम। यह वो नाम है जिसके बैनर तले इस कोशिश का आगाज हुआ है कि सच को सच की तरह पहुंचाया जाए। खबरें आप तक जल्दी पहुंचे लेकिन खबरों को जल्दी पहुंचाने की हड़बड़ी में आप तक गलत खबर न पहुंच पाए इसका भी पूरी तरह से ख्याल रखा जाएगा।

हमारे अंदर सच को सच की तरह बोलने कहने और लिखने की जिद ने जन्म लिया और हमने शुरूआत कर दी है पत्रकार बाबू डाॅट काॅम की। जाहिर है आगाज हो चुका है आपके सहयोग और समर्थन से हम इसे मुकाम तक ले जाने की ख्वाहिश रखते हैं। हमारा सफर शुरू हो चुका है आप साथ देते रहे तो यह कोशिश अपने तय मुकाम तक पहुंचेगी। देखते रहें पढ़ते रहें पत्रकार बाबू डाॅट काॅम।